Garibi Status Hindi | गरीब और अमीर स्टेटस & शायरी

Garibi Status Hindi :- दोस्तों आप आप सभी किसी गरीब इंसान को उसके गरीबी के हालत में जरूर देखा होगा, आप लोगो की जागरूकता बढ़ने के लिए हमने आप के लिए गरीब और अमीर स्टेटस लाये है।

Garibi Status Hindi

बडा शौक था उन्हें मेरा आशियाना देख़ने का
ज़ब देख़ी मेरी गरीबी तो रास्ता ब़दल लिया

मरहम लगा सको तो किसी
गरीब के जख्मों पर लगा देना ,
हकीम बहुत हैं बाजार
में अमीरों के इलाज खातिर।

Garibi Status Hindi
गरीब और अमीर स्टेटस

शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है
वो मजदूर,
जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है

Garibi Status Hindi
Garibi Status Hindi

मैं कड़ी धूप में जलता हूँ इस यकीन के साथ।
मैं जलुँगा तो मेरे घर में उजाले होगे।

Garibi Status Hindi
Garibi Status Hindi

वो जिनके हाथ में हर वक्त छाले रहते हैं,
आबाद उन्हीं के दम पर महल वाले रहते हैं

Garibi Status Hindi
Garibi Status Hindi

घर में चूल्हा जल सके इसलिए कड़ी धूप में जलते देखा है ,
हाँ मैंने गरीब की सांस को गुब्बारों में बिकते देखा है।

गरीब और अमीर स्टेटस

इस कम्बख़्त मौत ने
सारा फासला ही मिटा दिया,
एक अमीर को लाकर गरीब
के पास ही लिटा दिया…!!

दर्द से कराहती वो माँ सिसक रही थी रात में
बुझने लगा था वो दीया भी घर के जज़्बात में

यहा गरीब को मरने की जल्दी यूँ भी हैं,
के कही कफन महंगा ना हो जाए…!

अमीरी और गरीबी पर शायरी

गरीबी माँ का आँचल देती है, और
अमीरी महलो की तन्हाई…!

अमीर लोग तो साहब
सपने देखे है raat को,
हम गरीब तो अपने बच्चों
के भूखे चेहरे देखते हैं…….!!

उन घरो में जहाँ मिट्टी कि घड़े रखते हैं।
कद में छोटे मगर लोग बड़े रखते हैं।

अमीर क़ी बेटी पार्लंर मे ज़ितना दे आती हैं
उतनें मे गरीब क़ी बेटी अपनें ससुराल चली ज़ाती हैं

इसे नसीहत कहूँ या
जुबानी चोट साहब
एक शख्स कह गया
गरीब मोहब्बत नहीं करते

गरीबी मोटिवेशनल शायरी

वक़्त भी चादर ओढ़े सो रहा था ख़ामोशी के
भूखी रात भी गा रही थी लोरियाँ बदमाशी के

एक फूस की झोपड़ी थी वो शिशु था गोद में
रोता था बिलखकर अपनी माँ की आगोश में

बस एक बात का मतलब आज तक समझ नहीं आया, जो
गरीब के हक के लिए लड़ते हैं वो अमिर कैसे बन जाते हैं…!

मैंने टूट कर रोते देखा नसीब को,
जब मुस्कुराते देखा मासूम गरीब को।

Garibi Status Hindi

यूँ गरीब कह कर खुद की तौहीन ना कर ऐ बंदे,
गरीब तो वो लोग हैं जिनके पास ईमान नहीं है…!

उसकी गरीबी और
भूख का कोई अंदाजा तो लगाएं,
उसकी पीठ आतों से जाकर सटी हुई है।

उसकी गरीबी और भूख का कोई अंदाजा तो लगाएं,
उसकी पीठ आतों से जाकर सटी हुई है…!

रवि के पहले किरण से जग गया वह शिशु था
गरीबी के कलरव से जो मर गया वह विभु था

बदन काँप रहा था किसी का ठण्ड से, और
जुटे वाले बोले, वाह क्या गुलाबी मौसम है…!

गरीबो को गले लगाता कौन है,
उनके दर्द में आँसू बहाता कौन है ,
उनकी मौत पर सियासत छिड़ जाती है,
उनके जीते जी इज्जत दिलाता कौन है।

उसने यह सोच कर अलविदा कह दिया।
गरीब लोग हैं मुहब्बत के सिवा क्या देंगे।

गरीबी को कागज़ पे उतार क़र अमीर ब़न ज़ाते है यहां लोग
ये कैंसा मुल्क़ हैं जहां दर्दं नही, दर्द की तस्वीर ख़रीद लेते है लोग

गौंर से देख़ इन आँख़ो में कभीं
ज्यादा कुछ नही ये बस प्यार ज़ानता हैं
गरीब का बच्चा हैं साहेब
ज़ब भी दो वक़्त क़ी रोटी मिलें
उसीं दिन को त्यौंहार मानता हैं

शाम को थक कर टूटे
झोपड़े में सो जाता है
वो मजदूर,
जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है

साथ सभी ने छोड़ दिया,
लेकिन ऐ-गरीबी,
तू इतनी वफ़ादार कैसे निकली।

ना सेंक पाता अंगीठी पर रोटी न बाजुओं को
ना रोक पाता था पिता बहते हुए आंसुओं को

उन घरो मे जहां मिट्टी के घडे रहते है
क़द में छोटे मग़र लोग बडे रहते है

Best garibi status in hindi

अब मैं हर मौसम में
खुद को ढाल लेता हूँ,
छोटू हूँ… पर अब मैं
बड़ो का पेट पाल लेता हूँ।

मोहब्बत भी सरकारी
नौकरी लगती हैं साहब,
किसी गरीब को मिलती ही नहीं।

घर में चुल्हा जल सकें इसलिए
कड़ी धूप में जलते देखा है,
हाँ मैंने ग़रीब की साँसों को
भी गुब्बारों में बिक़ते देखा है।

भूखे की थाली में भी
अनाज होना चाहिए,
साहब !!! गरीबों के लिए
भी जिहाद होना चाहिए।

Garibi status hindi image

राहों में कांटे थे फिर भी
वो चलना सीख गया,
वो गरीब का बच्चा था
हर दर्द में जीना सीख गया।

डिग्री लेकर रिक्शा खींचे युवक इन बाज़ारों में,
अनपढ़ नेता डोरे पर है महंगी महंगी करों में…!

दिमागी रूप से जो गरीब हो जाते है,
वही गरीबों का मजाक उड़ाते है।

ये गंदगी तो महल वालों
ने फैलाई है साहब,
वरना गरीब तो सड़कों
से थैलीयाँ तक उठा लेते हैं

मरहम लगा सक़ो तो क़िसी गरीब के ज़ख्मो पर लगा देना
हकीम ब़हुत है बाज़ार मे अमीरो के इलाज़ ख़ातिर

गरीब+को+जिन्दगी

बहुत जल्दी सीख लेता हूँ
जिंदगी का सबक
गरीब बच्चा हूँ
बात-बात पर जिद नहीं करता

तहज़ीब की मिसाल गरीबो के घर पें हैं
दुपट्टा फ़टा हुआ हैं मगर उनकें सर पे हैं

जो अमीर था कल तक आज वो फ़क़ीर बन गया,
वक़्त है साहेब, चाँद पलों में ही कितनो का नसीब बदल गया…!

इसे भी जरूर पढ़े :-

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x
Scroll to Top