Ek Tarfa Pyar Shayari in Hindi

जब कोई किसी से प्यार करने लगता है और सामने वाला आपके प्यार को नहीं समता है तो उसे कहा one sided love जाता है आज आपको यहाँ Ek Tarfa Pyar Shayari in Hindi मिलेंगे।

Ek Tarfa Pyar Shayari in Hindi

Ek Tarfa Pyar Shayari in Hindi

जान मेरी, बिछड़ कर
तुझसे मैं कहां जी पाऊंगा..!

अचानक कुछ करामात हो गयी
उससे मिले और कुछ बात हो गयी,
बहोत दिनों से जिसे कुछ बोल ना सका
आज उसकी मुस्कराहट में सारी बात हो गयी।

हम मोहब्बत की नुमाइश नहीं करते,
हम लफ्ज़ो की पैमाइश नहीं करते,
जिसे चाहते है टूट के चाहते है,
बदले में चाहे जाने की ख्वाइश नहीं करते…

यकीनन हम तुम्हे मुफ्त में
मिले हैं, कद्र न करना हक है तुम्हारा…

बेवफाई को कर बदनाम
ज़ालिम दुनिया यूं ही रोती है..

सनम, साथ मोहब्बत का
हम क ब्र तक निभाएंगे..

वो प्यार में बेवफाई,
फिर बिछड़ने पर तन्हाई,
इस दुनिया में वो इश्क कहाँ रह गयी है
इनसे अच्चा मेरा एकतरफा प्यार ही सही है।

इंतज़ार है की कोई शख्स यूँ मिले, कि वो
मिले तो सिर्फ मेरा होकर मिले…

मयकशी इन नज़रों से मगर
प्यार कम नहीं होगा..

सच में बहुत तकलीफ होती है, जब
आपको समझने वाला ही आपको गलत समझे…

सुना है हर चीज़ मिल जाती है
दुआ से, एक बार हम भी तुम्हे मांगेंगे खुदा से…

सायद अब दिल टूटने लगा है,
“मेरा इश्क टुटा नहीं है”
दिल की बात तुझसे कह नहीं पाए
“पर मेरा प्यार झूठा नहीं है”।

ठुकरा देना जानम चाहे मुझे,
कोई गम नहीं होगा..

ना चाहो इतना हमें चाहतों से डर लगता है,
ना आओ इतना करीब जुदाई से डर लगता है,
तुम्हारी वफाओं पे भरोसा है,
मगर अपने नसीब से डर लगता है…

छोटी छोटी बातें सिल में रखने से,
बड़े बड़े रिश्ते भी कमज़ोर हो जाते हैं…

मैं उसकी इस दुआ से दर गया हूँ,
कि तुमको मुझसे भी अच्छी मिले…

खोये थे यादों में तेरी,
क्यों खोये थे कुछ याद नहीं
सब कुछ भूल गए तेरी याद में
क्या याद था वो भी याद नहीं
तुम ही याद हो बस
क्यों याद हो कुछ याद नहीं।

धागा रिश्तों का इतना कच्चा नहीं होता,
दिल तोडना किसी का इतना अच्छा नहीं होता,
दिल की आवाज़ होता हैं प्यार,
कौन कहता हैं एक तरफ़ा प्यार सच्चा नहीं होता…

पलकों की इस लुक-छुपी को दिल कहते है, मैं प्यार
मान लू न कह के तुम हंस देती हो कैसे मैं इंकार मान लूँ…

कुछ इस तरह मेरी ज़िदगी को मैंने आसान
कर लिया, भूलकर तेरी बेवफाई ,मेरी तन्हाई से प्यार कर लिया…

कई आशिक होंगे उनके
सबका प्यार कबूल भी तो नहीं कर सकती,
उन्हें हमसे प्यार नहीं तो क्या हुआ
पर उन्हें बेवफा भी तो नहीं कह सकते।

वो मुझे देखकर भी नजरअंदाज बनती है
सब कुछ जानती है,
फिर भी अनजान बनती है।

कोई गलती हो जाये तो दन्त लिया करो,
पर यूँ नाराज़ होकर रुलाया न करो…

मिले गर मौका तो यकीन
तुम्हें चाहत का दिलाएंगे..

चाहत में तेरी जिंदगी भर
मैं यूं ही मरना चाहूंगा..

अपने दिल की बात किसी से मत
कहिये, वैसे भी किसी को फर्क नहीं पड़ता…

दिल में तमन्नाओं को दबाना सीख लिया,
गम को आँखों में छिपाना सीख लिया,
मेरे चेहरे से कहीं कोई बात ज़ाहिर न हो,
दबा के होठों को हमने मुस्कराना सीख लिया…

जरा सी बात पर पत्तो सा बिखर ना जाना
उम्र गुजर जाती है,
किसी के दिल तक का रास्ता बनाने में।

तेरे इश्क में ना जाने कहा- कहा,
क्या-क्या लिखते जा रहे है,
तेरा इश्क जंगल सा हो गया है
बहकते ही जा रहे है।

सुनो, तुम अपने हिस्से का दर्द मुझे दे दो, और
मेरे हिस्से का तुम मुस्कुराया करो पगलू…

जाना हमने मोहब्बत तो
सच्ची, एक तरफा ही होती है..

कुछ प्यार में इजहार नहीं होता,
एसी बात नहीं की… वो सच्चा प्यार नहीं होता
ये प्यार एक तरफ़ा ही निभाए जाते है…
क्योकि हर किसी को हर किसी से प्यार नहीं होता।

इश्क का मजा तो इन्तजार में है
उसकी एक झलक एक दीदार में है,
बेकरार होकर देखो प्यार में
सच्चा इश्क तो एकतरफा प्यार में है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top